कपड़े धोने वाला आसिफ बन गया आशु गुरुदेव, दो आश्रम हैं अब

कपड़े धोने वाला आसिफ बन गया आशु गुरुदेव, दो आश्रम हैं अब

एक और कथित बाबा का काला चेहरा सार्वजनिक हो गया है। आशु गुरुदेव के विरुद्ध सामूहिक यौन उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराने वाली गाजियाबाद की पीड़िता ने धारा- 164 के अंतर्गत न्यायालय में मंगलवार को बयान दर्ज कराये थे, वहीं उसकी नाबालिग बेटी के बुधवार को बयान दर्ज हुए। गाजियाबाद की चालीस वर्षीय महिला ने कथित बाबा आशु गुरुदेव, उसके बेटे और बेटे के दोस्त के विरुद्ध थाना हौजखास में सामूहिक यौन उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था। आरोपी के दो आश्रम हैं, जिनमें एक सेक्टर- 7 रोहिणी और दूसरा आश्रम एक्स ब्लॉक, थाना हौजखास क्षेत्र में ही है।

कथित बाबा आशु गुरुदेव के बारे में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है, इसका असली नाम आसिफ है और यह शुरुआत में कपड़े धोता था, ड्राइक्लीन की दुकान चलाने वाले आसिफ ने पहले नाम बदला और फिर धर्म को धंधा बना लिया। चूंकि अंधविश्वासी हिंदू ही ज्यादा होते हैं, जो धर्म के नाम पर बड़ा रुपया बर्बाद करते हैं, सो आसिफ ने ठगई के लिए हिंदू धर्म को चुना।

बताया जाता है कि रोहिणी में ड्राइक्लीन की दुकान चलाते समय आसिफ एक बाबा के संपर्क में आ गया था, जिससे उसने तंत्र-मंत्र, वशीकरण और टोना-टोटका के बारे में कुछ सीखा, फिर नाम बदल कर धर्म का धंधा करने लगा। लोग झांसे में फंसते रहे और आशु उर्फ आसिफ का धंधा निरंतर बढ़ता रहा। गली में पर्चे बांटने से शुरुआत हुई और फिर समाचार पत्रों में विज्ञापन देने के साथ टीवी तक आ गया। आसिफ उर्फ आशु आज करोड़ों की संपत्ति का मालिक है। आसिफ खुद को मां कामाख्या देवी का भक्त बता कर लोगों को मूर्ख बनाता था।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.