कंट्री इन में हुए बवाल का मुकदमा दर्ज, पांच नामजद, संचालक बचाया

कंट्री इन में हुए बवाल का मुकदमा दर्ज, पांच नामजद, संचालक बचाया

बदायूं की सदर कोतवाली ने गौतम संदेश में खबर प्रकाशित होने पर होटल कंट्री इन में हुए बवाल का मुकदमा तो दर्ज कर लिया लेकिन, पुलिस होटल संचालक को बचा गई। मुख्य आरोपी होटल संचालक ही है लेकिन, राजनैतिक और आर्थिक दबावों के चलते पुलिस ने होटल संचालक को बचा दिया, जिससे शहर में व्यापक स्तर पर पुलिस की फजीहत हो रही है।

पढ़ें: कंट्री इन में दो बजे छेड़छाड़, शराबी ने की फायरिंग, हिरासत में लिए बवाली

उल्लेखनीय है कि सदर कोतवाली क्षेत्र में नबादा के पास स्थित होटल कंट्री इन में 31 दिसंबर की रात को न्यू ईयर सेलिब्रेशन के नाम पर अय्याशी की महफिल आयोजित की गई थी। पार्टी का हिस्सा बनने की फीस चार हजार रूपये थी, जिसके बदले शराब और खाने के साथ हंगामेदार म्यूजिक की व्यवस्था की गई थी। होटल संचालक ने नाबालिगों को भी रूपये लेकर एंट्री दी थी। पार्टी का टाइम रात्रि 12 बजे तक था लेकिन, पार्टी 2 बजे भी निरंतर चल रही थी। 2 बजे के करीब सुंदरियों के साथ झूम रहे शराबियों ने छेड़छाड़ शुरू कर दी। विरोध करने पर हाथापाई शुरू हो गई थी, जिसके बाद किसी ने फायर कर दिया था तो, चीख-पुकार के साथ भगदड़ मच गई थी और फिर हालात बेकाबू हो गये थे।

होटल में हो रहे बवाल की किसी ने पुलिस को सूचना दे दी थी। कुछ ही देर में पचास से ज्यादा पुलिस कर्मियों ने होटल को घेर लिया था और मौके से दर्जन भर बवालियों को हिरासत में ले लिया था। पुलिस ने होटल संचालक को हिरासत में नहीं लिया था एवं हिरासत में लिए बवालियों पर कार्रवाई नहीं की जा रही थी, इस बीच गौतम संदेश ने खबर प्रकाशित कर दी तो, उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मुकदमा अपराध संख्या- 1/2019 धारा- 147/323/504/506/188 आईपीसी दर्ज कर लिया गया, जिसमें पांच धनपशु नामजद किये गये हैं एवं कुछ अज्ञात दर्शाये गये हैं।

नये साल के पहले मुकदमे में ही कोतवाली पुलिस ने खेल कर दिया, क्योंकि मुकदमे में सर्व प्रथम होटल संचालक का ही नाम आना चाहिए था। रात्रि 12 बजे के बाद पार्टी का चलते रहना और नाबालिगों को पार्टी में एंट्री देना होटल संचालक का ही अपराध है, जिसे पुलिस ने राजनैतिक और आर्थिक दबाव में बचा दिया है। साल के पहले दिन ही पुलिस की जमकर फजीहत हो रही है। बताया यह भी जा रहा है कि होटल संचालक ने जीएसटी की भी चोरी की है। पार्टी में आये लोगों को असली बिल नहीं दिए गये थे, जिसकी जाँच प्रशासन को करानी चाहिए।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.