हंसो-हंसाओ

एक दुकान के बाहर लिखा था – इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बिकाऊ है।
एक आदमी दुकानदार से जाकर बोला – मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं।
दुकानदार ने कहा – साथ के कमरे में बैठा है, जा कर मिल लो।
ग्राहक उस कमरे में गया। कुर्सी पर एक हट्टा-कट्टा कुत्ता बैठा था।  पूछा – क्यों भई, तुम यहां क्या कर रहे हो?
कुत्ते ने बताया – कर तो मैं बहुत कुछ सकता हूं, लेकिन आजकल इस दुकान की रखवाली करता हूं।  इससे पहले अमेरिका के जासूसी महकमे में काम करता था और कई खूंखार आतंकवादियों को पकड़वाया… फिर मैं इंग्लैंड चला गया जहां पुलिस के लिए मुखबरी करता था।  एक साल बाद यहां आ गया।
उस आदमी ने दुकानदार से पूछा – इतने गुणवान कुत्ते को आप बेचना क्यों चाहते हैं?
‘अव्वल नम्बर का झूठा है…जवाब मिला।
——————————

————————————————
एक पति उन लोगों से बहुत चिढ़ता था जो उसके हिसाब से बहुत बोलते थे। एक दिन उसने गर्व से अपनी पत्नी से कहा कि, सुना है कि पुरूष एक दिन में 2200 शब्द इस्तेमाल करते हैं, जबकि औरतें 4400….
पत्नी बोली – ऐसा इसलिए है क्योंकि औरतों को अपनी हर बात दोहरानी पड़ती है, जो वे अपने पति से कहती हैं।
पति: क्या कहा, फिर से कहना?
—————————————–
शीला ने पति से कहा- कितनी बार कहा है कि अपने बालों में खिजाब लगाओ, बुड्‌ढे नजर आते हो।
पति- अरे भाग्यवान! अगर मैंने बालों में खिजाब लगा लिया तो लड़कियो से बेधड़क बात नहीं कर पाऊंगा।
——————————
बंता – ओए, ये फोन पर इतनी देर से किससे बात कर रहा है?
संता – बीवी से….
बंता – इतने प्यार से?
संता – तुम्हारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.