बदायूं नगर पालिका परिषद का अध्यक्ष पद अनुसूचित वर्ग के लिए आरक्षित

बदायूं नगर पालिका परिषद का अध्यक्ष पद अनुसूचित वर्ग के लिए आरक्षित

 

उत्तर प्रदेश की कई नगर पालिका परिषदों के अध्यक्षों के आरक्षण में फेरबदल किया गया है। आपत्तियों के बाद परिसीमन की अंतिम सूची जारी कर दी गई है। कई नगर पालिका परिषदों के अध्यक्ष सामान्य थे, जिन्हें अब आरक्षित कर दिया गया है, जिससे संभावित प्रत्याशियों के सपने चकनाचूर हो गये हैं।

बरेली मंडल में भी कई फेरबदल किये गये हैं। बदायूं नगर पालिका परिषद में अब अनुसूचित वर्ग का अध्यक्ष चुना जायेगा, जबकि अब तक सामान्य वर्ग में रखा गया था। शाहजहाँपुर नगर पालिका परिषद का अध्यक्ष पद का दायित्व महिला वर्ग के लिए आरक्षित किया गया था, लेकिन अब यहाँ पिछड़े वर्ग का अध्यक्ष चुना जायेगा। पीलीभीत में पिछड़े वर्ग की महिला की जगह अब अनुसूचित वर्ग का अध्यक्ष चुना जायेगा, वहीं लखीमपुर खीरी का अध्यक्ष पद पूर्ववत महिला वर्ग के लिए ही आरक्षित रहेगा।

शासन द्वारा आपत्तियों के बाद जारी की गई अंतिम सूची देखने से तमाम लोगों के सपने टूट जायेंगे। अनन्तिम सूची के आधार पर ही तमाम लोग चुनाव लड़ने की तैयारियों में जुट गये थे। दीपावली के अवसर पर संभावित प्रत्याशियों ने शुभकामना देने के लिए लाखों रूपये के होर्डिंग्स, फ्लैक्स वगैरह लगवा दिए थे। बदायूं के भाजपा नेताओं ने आरक्षण बदलवा कर दोहरी लड़ाई जीत ली है। शक्तिशाली फात्मा रजा को लड़ाई से बाहर कर दिया, वहीं पार्टी में चल रही टिकट की जंग से पार पा ली, साथ ही दलित वर्ग भी खुश हो जायेगा।

खैर, उक्त सूची सोशल साइट्स पर वायरल हुई है, जिसके बारे में देर रात तक पुष्टि नहीं हो पाई। एक वर्ग आरक्षण में बदलाव होने का दावा कर रहा है, वहीं दूसरा वर्ग सूची को फर्जी करार दे रहा है। अलग-अलग दावे होने से असमंजस की स्थिति उतपन्न हो गई है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

पढ़ें: बरेली, लखीमपुर खीरी सामान्य, बदायूं, शाहजहाँपुर महिला को आरक्षित

Leave a Reply

Your email address will not be published.