ओवरब्रिज के नीचे अवैध कब्जे हटाने को अब चलेगी जेसीबी

ओवरब्रिज के नीचे अवैध कब्जे हटाने को अब चलेगी जेसीबी
कलेक्ट्रेट स्थित सभा कक्ष में अफसरों के साथ बैठक करते जिलाधिकारी शम्भूनाथ।
कलेक्ट्रेट स्थित सभा कक्ष में अफसरों के साथ बैठक करते जिलाधिकारी शम्भूनाथ।

बदायूं में ओवरब्रिज के नीचे सर्विस रोड बनाने हेतु अपूर्ण निर्माण को शीघ्र पूरा कराया जाएगा। भवन, दुकान स्वामियों को अवैध कब्जा स्वयं हटाने हेतु तीन दिन की मोहलत प्रदान की गई है। निर्धारित अवधि के बाद 14 जून को राजस्व अधिकारियों तथा पुलिस की मौजूदगी में जेसीबी  द्वारा अवैध कब्जा हटाया जाएगा और उस पर व्यय राशि की वसूली भी सम्बंधित भवन, दुकान स्वामी से की जाएगी।
शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभा कक्ष में सांय काल जिलाधिकारी शम्भूनाथ की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में उक्त निर्णय लिया गया। जनपद में कानून एवं शांति व्यवस्था क़ायम रखने हेतु जिलाधिकारी ने एसएसपी सौमित्र यादव सहित समस्त उप जिलाधिकारियों, पुलिस क्षेत्राधिकारियों एवं अन्य सम्बंधित अधिकारियों के साथ कई संवेदनशील प्रमुख बिन्दुओं पर गहन समीक्षा की। जिलाधिकारी ने कानून एवं शांति व्यवस्था की दृष्टि से संवेदनशील गांवों का चिन्हीकरण करने के निर्देश देते हुए कहा कि ज़हरीली शराब की अवैध बिक्री हेतु चिन्हित स्थानों के अलावा जनपद की सीमा में आने वाले समस्त ढावों पर छापामार कार्रवाई की जाए। उन्होंने अतिशबाजी तथा शस्त्र की दुकानों का भी निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी ने कहा है कि धारा- 107/16 में पाबन्द लोगों द्वारा पुनः शांति भंग का प्रयास करने पर उनकी ज़मानत राशि जब्त कर विधिक कार्रवाई शुरू की जाए। विद्युत से सम्बंधित घटनाओं तथा दुर्घनाओं के कारण अव्यवस्था की स्थिति उत्पन्न होने वाले प्रमुख बिन्दुओ की समीक्षा का जब नम्बर आया, तो विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियन्ता बैठक से नदारद थे। जिलाधिकारी ने इस पर कड़ी अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए नाराजगी व्यक्त की। जिलाधिकारी ने आगामी पंचायत चुनाव को मद्देनज़र रखते हुए विशेष सतकर्ता बरतने के निर्देश दिए हैं। बैठक में अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) राजेन्द्र प्रसाद यादव, अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) अशोक कुमार श्रीवास्तव, एसपी (सिटी) अनिल कुमार, एआरटीओ उदयवीर सिंह, प्रभारी सीएमओ डा. नरेन्द्र सिंह सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.