हंसो-हँसाओ

चुट्कुले मोहन (रामू से)- यार तुम्हारी पत्नी की मौत का बड़ा अफसोस है। वैसे हुआ क्या था? रामू (मोहन से)- गोली लगी थी माथे में। मोहन- शुक्र कर ऊपर वाले का कि आंख बच गई। ******* संता (बंता से)- मैं इस बार चुनाव लड़ूंगा और मैंने अपना चुनाव चिन्ह भी सोच लिया है। बंता (संता […]

नागार्जुन: साहित्य जगत का चमकता सितारा

नागार्जुन: साहित्य जगत का चमकता सितारा

30 जून सन् 1911 के दिन ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा का चन्द्रमा हिन्दी काव्य जगत् के उस दिवाकर के उदय का साक्षी था, जिसने अपनी फ़क़ीरी और बेबाक़ी से अपनी अनोखी पहचान बनाई। कबीर की पीढ़ी का यह महान कवि नागार्जुन के नाम से जाना गया। मधुबनी ज़िले के सतलखा गाँव की धरती बाबा नागार्जुन […]

हंसो-हंसाओ

एक दुकान के बाहर लिखा था – इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बिकाऊ है। एक आदमी दुकानदार से जाकर बोला – मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं। दुकानदार ने कहा – साथ के कमरे में बैठा है, जा कर मिल लो। ग्राहक उस कमरे में गया। कुर्सी पर एक हट्टा-कट्टा कुत्ता बैठा […]

चमड़े की सड़क

एक बार की बात है एक राजा था। उसका एक बड़ा-सा राज्य था। एक दिन उसे देश घूमने का विचार आया और उसने देश भ्रमण की योजना बनाई और घूमने निकल पड़ा। जब वह यात्रा से लौट कर अपने महल आया। उसने अपने मंत्रियों से पैरों में दर्द होने की शिकायत की। राजा का कहना […]

जन्मशती वर्ष पर विशेष- सादत हसन मंटो

11 मई, 1912 को जन्मे सादत हसन मंटो महज़ 42 वर्ष की छोटी सी ज़िंदगी काट कर 18 जनवरी, 1955 को इस दुनिया को अलविदा कह गए। उनकी ज़िंदगी सालों के पैमाने पर भले ही छोटी रही हो पर असल में ‘लार्जर देन लाइफ’ थी। उन्होंने उर्दू लेखन को जो ऊंचाई दी उसे आज भी […]

विवादों में घिरी कलाम की ‘टर्निग प्वाइंट्स-अ जर्नी थ्रू चैलेंजिज़’

पूर्व राष्ट्रपति डा. एपीजे अब्दुल कलाम की अप्रकाशित किताब ने राजनीति में हंगामा मचा दिया है। टर्निग प्वाइंट्स-अ जर्नी थू्र चैलेंजिज़ में कहा गया है कि उन्होंने अंतरात्मा की आवाज को तरजीह देते हुए पद से इस्तीफा देने का मन बना लिया था। उन्होंने बिहार विधानसभा भंग करने के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय […]

हंसो-हंसाओ

पति (पत्नी) – अगर तुम्हें खाना बनाना आता तो मैं आया की छुट्टी कर देता। पत्नी (पति से) – अगर तुम्हें प्यार करना आता तो मैं ड्राइवर की छुट्टी कर देती। ***************************** चिंटू अपने डैडी के साथ घूमकर लौटा और मम्मी से बोला – मम्मी-मम्मी, पापा को लड़कियों की तरफ देखना अच्छा नहीं लगता। जब […]

मुट्ठी में बंद दुनिया

 अंगुलियों के उद्गम स्थान पर ग्रहों का निवास होता है और उस स्थान को वलय या पर्वत कहा जाता है। पर्वतों की ऊंचाई के आधार पर ही व्यक्ति की प्रकृति का निर्णय हो जाता है। जो पर्वत अधिक उठा होगा उस पर्वत का स्वामी ग्रह व्यक्ति पर प्रभावी रहेगा। तर्जनी: अंगूठे के पास वाली अंगुली […]

दिमागी कसरत

आपके पास तीन बैग हैं। हर बैग में दो कंचे हैं। बैग ए में दो सफ़ेद कंचे हैं, बैग बी में दो काले कंचे हैं और बैग सी में एक काला और एक सफ़ेद कंचा है। आप यूं ही एक बैग उठाते हैं और एक कंचा निकाल लेते हैं। यह एक सफ़ेद कंचा है। अब […]