कमिश्नर, आईजी और डीआईजी ने देखा जनसभा स्थल

कमिश्नर, आईजी और डीआईजी ने देखा जनसभा स्थल
मुख्यमंत्री के दौरे को लेकर बैठक करते अधिकारीगण।
मुख्यमंत्री के दौरे को लेकर बैठक करते अधिकारीगण।
बदायूं में मुख्यमंत्री के जनसभा स्थल पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के साथ पेयजल की समुचित व्यवस्था कराई जाए। सभा स्थल के निकट पुरूष और महिलाओं हेतु अस्थायी तथा मोबाइल शौचालय भी बनवाये जायें, इसके अलावा अग्नि शमन वाहनों की भी उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाये।
मंगलवार को बरेली मण्डल के आयुक्त प्रमांशु, बरेली जोन के आईजी विजय कुमार सिंह मीना, बरेली परिक्षेत्र के डीआईजी आशुतोष कुमार ने जिलाधिकारी सीपी त्रिपाठी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ जनसभा स्थल पर पहुंचकर संयुक्त रूप से तैयारियों का स्थलीय निरीक्षण किया, तत्पश्चात विकास भवन स्थित सभा कक्ष में सम्बन्धित अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। आयुक्त ने सभा स्थल पर बनाए गए सभी ब्लॉकों में प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त रूप से डयूटी लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कम से कम दो क्रेनों की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए, जिससे आवश्यकतानुसार उसका उपयोग किया जा सके। आयुक्त ने बार्डर टू बार्डर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निर्देश देते हुए कहा कि प्रत्येक दशा में सभी व्यवस्थाएं त्रुटि रहित सुनिश्चित कराई जायें।
मुख्यमंत्री के जनसभा स्थल को देखते कमिश्नर, आईजी, डीआईजी।
मुख्यमंत्री के जनसभा स्थल को देखते कमिश्नर, आईजी, डीआईजी।
आईजी विजय कुमार मीना ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था हेतु पुलिस बल बढ़ाए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि बरेली रोड पर जो गांव सड़क से लगे हुए हैं, वहां बैरीकेटिंग कराकर पुलिस बल और मजिस्ट्रेट तैनात किए जायें। डीआईजी आशुतोष कुमार ने वाहनों की पार्किंग, यातायात व्यवस्था सुनिश्चित कराने तथा वीआईपी ब्लाकों में अनावश्यक लोगों के प्रवेश न कराने की हिदायत दी। जिलाधिकारी ने कहा कि दिए गए निर्देशों का अक्षरशः पालन कराया जाएगा। 23 मई निकट होने के कारण तैयारियां तेजी से की जा रही हैं। जनसभा स्थल पर हेलीपैड बनाने हेतु लाल झंडियां लगाकर रोलर चलाया जा रहा है। इस अवसर पर एसएसपी सौमित्र यादव, मुख्य विकास अधिकारी प्रताप सिंह भदौरिया सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद रहे। यहाँ यह भी बता दें कि जनसभा स्थल पर पिछले कुछ महीनों में कई फुट मिटटी डाली गई है, जो धसक भी सकती है। हांलाकि प्रशासन लगातार रोलर चलवा रहा है, परन्तु जब तक मिटटी के ऊपर एक-दो बारिश नहीं हो जाती, तब तक मिटटी के धसकने की संभावना बनी रहती है।
संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply

Your email address will not be published.